विद्याभारती e पाठशाला

Lesson – 22 देवगुरु बृहस्पति

Lesson – 22 देवगुरु बृहस्पति
1- देवगुरु बृहस्पति
बृहस्पति का अनेक जगह उल्लेख मिलता है। ये एक तपस्वी ऋषि थे। इन्हें ‘तीक्ष्णशृंग’ भी कहा गया है। धनुष बाण और सोने का परशु इनके हथियार थे और ताम्र रंग के घोड़े इनके रथ में जोते जाते थे। बृहस्पति का अत्यंत पराक्रमी बताया जाता है। इन्द्र को पराजित कर इन्होंने उनसे गायों को छुड़ाया था। युद्ध में अजय होने के कारण योद्धा लोग इनकी प्रार्थना करते थे। ये अत्यंत परोपकारी थे जो शुद्धाचारणवाले व्यक्ति को संकटों से छुड़ाते थे। इन्हें गृहपुरोहित भी कहा गया है, इनके बिना यज्ञयाग सफल नहीं होते।

pdf देखें….
Lesson – 22 देवगुरु बृहस्पति
2- बोधकथा

विडियो….

https://youtu.be/9mRXx_sCgBE

https://youtu.be/fnGenEEPiWc

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *