विद्याभारती e पाठशाला

शिक्षा दर्शन- 20 विद्यालय का संस्कारक्षम वातावरण

विद्याभारती E पाठशाला
Lesson – 20 (शिक्षा शिक्षण)
आदर्श अध्यापक के गुणअध्यापक शिक्षण प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण अंग है। अध्यापक के बिना शिक्षा की प्रक्रिया सफल रुप से नहीं चल सकती।अध्यापक न केवल छात्रों को शिक्षा प्रदान करके ही अपने दायित्वत से मुक्ति पा लेता है वरन उसका उत्तर दायित्व है तो इतना अधिक और महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक व्यक्ति उन्हें पूर्ण करने में समर्थ नहीं है। शिक्षक की क्रिया और व्यवहार का प्रभाव उसके विद्यार्थियों,विद्यालय और समाज पर पड़ता है।इस दृष्टि से कहा जाता है कि अध्यापक राष्ट्र का निर्माता होता है।अतः अध्यापक अपने कार्यों को सफलतापूर्वक एवं उचित प्रकार से करने के लिए आवश्यक है कि उसमें कुछ गुण अथवा विशेषताएं होनी चाहिए।

Lesson – 20 शिक्षक.pdf
PDF

shikshan koushal-20 (vidyalay ka sanskarksham vatavaran).pdf
PDF

sarvesh khare.pdf
PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *