विद्याभारती e पाठशाला

भौतिक विज्ञान – 12 यांत्रिकी (Mechanics) गति और बल -1

विद्याभारती E पाठशाला
भौतिक विज्ञान – 12
यांत्रिकी (Mechanics) गति और बल -1
यांत्रिकी (Mechanics) भौतिकी की वह शाखा है जिसमें पिण्डों पर बल लगाने या विस्थापित करने पर उनके व्यवहार का अध्ययन करती है। यांत्रिकी की जड़ें कई प्राचीन सभ्यताओं से निकली हैं।
गति एवं गति के प्रकार
जब किसी पिंड ( Body ) की स्थिति समय के साथ बदलती है तो वह गतिमान अवस्था में होता है। अत: किसी पिंड की स्थिति में परिवर्तन को गति ( Motion ) कहते है।
किसी पिंड ( Body ) की गति ( Motion ) के अध्ययन के लिये हमें निर्देश तंत्र की आवश्यकता होती है। हम गति ( Motion ) का वर्णन एक चुने हुए निर्देश तंत्र ( Frame of Reference ) के सापेक्ष करते है। यदि चुने हुए निर्देश तंत्र ( Frame of Reference ) के सापेक्ष पिंड के निर्देशांक समय के साथ परिवर्तित होते है तो वह गतिशील तथा अपरिवर्तित रहते है तो वह पिंड विरामावस्था में होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *